What to expect from the camp?

Read the reports by past camp attendees of camps in 2009 and 2011 containing nice description of events and good pictures.

Like every year, camp coordinators put in a lot of efforts on providing a quality educational sessions regarding Hindu philosophy and its applicability for life, arts & crafts, games, group discussion sessions talent show are integral part of the camp. Also people who have been attending this camp for many years always relish mouthwatering Indian and international food prepared by our volunteers. The camp provides an ideal relaxation, fun and learning experience for the entire family.

Also HSC camp is on memorial day weekend, for college students and (senior high school students) information and registration is at http://hindustudentscouncil.org/

naag-aur-chitiyan

नाग और चीटियां

एक घने जंगल में एक बड़ा-सा नाग रहता था। वह चिड़ियों के अंडे, मेढ़क तथा छिपकलियों जैसे छोटे-छोटे जीव-जंतुओं को खाकर अपना पेट भरता था। रातभर वह अपने भोजन की तलाश में रहता और दिन निकलने पर अपने बिल में जाकर सो रहता। धीरे-धीरे वह मोटा होता गया। वह इतना मोटा हो गया कि बिल के अंदर-बाहर आना-जाना भी दूभर हो गया।

आखिरकार, उसने बिल को छोड़कर एक विशाल पेड़ के नीचे रहने की सोची लेकिन वहीं पेड़ की जड़ में चींटियों की बांबी थी और उनके साथ रहना नाग के लिए असंभव था। सो, वह नाग उन चींटियों की बांबी के निकट जाकर बोला, ‘‘मैं सर्पराज नाग हूँ, इस जंगल का राजा। मैं तुम चींटियों को आदेश देता हूं कि यह जगह छोड़कर चले जाओ।”

वहां और भी जानवर थे, जो उस भयानक सांप को देखकर डर गए और जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे लेकिन चींटियों ने नाग की इस धमकी पर कोई ध्यान न दिया।

वे पहले की तरह अपने काम-काज में जुटी रहीं। नाग ने यह देखा तो उसके क्रोध की सीमा न रही।

वह गुस्से में भरकर बांबी के निकट जा पहुँचा। यह देख हजारों चींटियाँ उस बांबी से निकल, नाग से लिपटकर उसे काटने लगीं। उनके डंकों से परेशान नाग बिलबिलाने लगा। उसकी पीड़ा असहनीय हो चली थी और शरीर पर घाव होने लगे। नाग ने चींटियों को हटाने की बहुत कोशिश की लेकिन असफल रहा। कुछ ही देर में उसने वहीं तड़प-तड़प कर जान दे दी।

 

शिक्षा- बुद्धि से कार्य करने पर शक्तिशाली शत्रु को भी ध्वस्त किया जा सकता है।

 

कहानी के लेखक : विष्णु शर्मा

bandar-aur-magarmachh

बन्दर और मगरमच्छ

एक नदी के किनारे एक जामुन के पेड़ पर एक बन्दर रहता था जिसकी मित्रता उस नदी में रहने वाले मगरमच्छ के साथ हो गयी।वह बन्दर उस मगरमच्छ को भी खाने के लिए जामुन देता रहता था।एक दिन उस मगरमच्छ ने कुछ जामुन अपनी पत्नी को भी खिलाये। स्वादिष्ट जामुन खाने के बाद उसने यह सोचकर कि रोज़ाना ऐसे मीठे फल खाने वाले का दिल भी खूब मीठा होगा | अपने पति से उस बन्दर का दिल लाने की ज़िद्द की।
पत्नी के हाथों मजबूर हुए मगरमच्छ ने भी एक चाल चली और बन्दर से कहा कि उसकी भाभी उसे मिलना चाहती है इसलिए वह उसकी पीठ पर बैठ जाये ताकि सुरक्षित उसके घर पहुँच जाए।बन्दर भी अपने मित्र की बात का भरोसा कर, पेड़ से नदी में कूदा और उसकी पीठ पर सवार हो गया। जब वे नदी के बीचों-बीच पहुंचे; मगरमच्छ ने सोचा कि अब बन्दर को सही बात बताने में कोई हानि नहीं और उसने भेद खोल दिया कि उसकी पत्नी उसका दिल खाना चाहती है।बन्दर को धक्का तो लगा लेकिन उसने अपना धैर्य नहीं खोया और तपाक से बोला –
“ओह, तुमने, यह बात मुझे पहले क्यों नहीं बताई क्योंकि मैंने तो अपना दिल जामुन के पेड़ की खोखल में सम्भाल कर रखा है।अब जल्दी से मुझे वापस नदी के किनारे ले चलो ताकि मैं अपना दिल लाकर अपनी भाभी को उपहार में देकर; उसे खुश कर सकूं।”

मूर्ख मगरमच्छ बन्दर को जैसे ही नदी-किनारे ले कर आया; बन्दर ने ज़ोर से जामुन के पेड़ पर छलांग लगाई और क्रोध में भरकर बोला –“अरे मूर्ख, दिल के बिना भी क्या कोई ज़िन्दा रह सकता है ? जा, आज से तेरी-मेरी दोस्ती समाप्त।”

 

नैतिक शिक्षा: मित्रो ,बचपन में पढ़ी यह कहानी आज भी मुसीबत के क्षणों में धैर्य रखने की प्रेरणा देती है ताकि हम कठिन समय का डट कर मुकाबला कर सकें। दूसरे, मित्रता का सदैव सम्मान करें।
ram-puja

Celebration for upcoming grand Shri Ram Mandir at the Ram Janma Bhumi, Ayodhya

World Hindu Council of America, Washington DC Chapter hosted grand celebration for upcoming grand Shri Ram Mandir at the Ram Janma Bhumi, Ayodhya, on Dec 07, 2019, and marking the end of five centuries of colonial subjugation of Hindus, as the Supreme court formalizes Hindu demands on Sri Ram Janma Bhoomi. 

The event was hosted at a Hindu Mandir in greater Washington DC area, and was attended by over 400 participants throughout the day.   See the events through pictures in this link.

We thank all the participants for being part of this historic event.

The event started at 9:30 AM with Vedic Puja, Paat, Bhajans. Devoutees of Sri Ram ji chanted  Ramayan  Dhayana Slokas, Rama Janana, Sita Kalyana, Rama Pattabhisheka and Mangala (Photos of Puja/Paat link).  Thereafter children from Samskruth Bharati recited Sri Ram Raksha Stotras. (Photos/ videos of , Ram  Storas, Hanuman Chalisa).

At noon Bhagwan Sri Ram jis’ grand Aarti was performed in-front Sri Ram’s deity, and later Prasad/food distribution was served to all participants throughout the day. (Aarti photos/videos links) .

In afternoon Bhajan Keertans  related to the praise of lord Rama was organized. (Bhajan videos Links). After Bhajans, sessions on history of Ayodhya and relevance of  adopting values from the life of Sri Ram ji in our own lives was presented to audience (Presentation photos/ videos links)..  Between 3-6 pm, many accomplished classical dance performers from ten professional dance academies in the DC metro area, presented enchanting dance dramas on Sri Ram and Raamyan (Raamayan dance performances link).

During the program, historic video capturing the sacrifices of millions of devotees throughout the history, and in the modern times also, to liberate the Sri Ram Janma Bhumi from the barbaric invaders were presented. Prayers were offered to those devotees who sacrificed their life for Sri Ramji and his ideals. (Ayoydhya History presentation & videos links)

We are thankful to all participants; volunteers; performers of Vedic Puja Paat; children and youth singing Sri Ram Sankeertans, Shlokas; Bhajan Keertan singers; professional dance academy Gurus, and performers,  who put together the enchanting dance performances in a short notice;  and all who made this great event possible, to commemorate lord Rama’s legal victory, and to celebrate on the upcoming grand Mandir at Sri Ram Janma Bhumi, Ayodhya.

As remarked by some of our senior volunteers, we need Tan, Man and Dhan to organize better and bigger programs like this to preserve, promote Hindu Dharma, and culture.  You may consider being part of our mailing list; and donations to support such events are certainly welcome.

Event Details:

DC Chapter of the Vishwa Hindu Parishad of America (VHPA-DC)
Invites All to Celebrates the Upcoming “Shri Ram Mandir” in Ayodhya

Date: Time: Saturday December 7 2019; 9:30 AM to 6:30 PM

Place : Hindu Temple, 10001 Riggs Road, Adelphi MD 20783

Schedule :

9:30 am to 12:30 PM : Puja, Jap, Yagnay for Sri Ram Lalla Virajman

1:30 – 2:30 : Bhajans, Ram Gunagaan by various groups

2:30 – 3:00 : Presentation on the Historic Ram Janma Bhumi event

3:00 – 6:00 : Dance, Drama on Ramayan, and more by different groups

Note: Food/Prasad will be available to attendees

The Event is in Celebration of upcoming Grand Shri Ram Mandir at the Ram Janma Bhumi, Ayodhya,

For offering our prayers and support to help building Grand Ram Mandir at Sri Ram Janma Bhumi Ayodhya

 

 

Dhayana Slokas, followed by Sankshipta Ramayana, Rama Janana, Sita Kalyana, Rama Pattabhisheka and Mangala
Puja videos/ photos
Hanuman Chalisa
Hanuman Chalisa by HSC Students
Aarti
Aarti
Bhajans
Bhajans
Dance Performances
Dance Performances
Presentations on Ayodhya, RJB history.